आठ सिद्धियां

 

आठ सिद्धियां वे सिद्धियां हैं, जिन्हें प्राप्त कर व्यक्ति सूक्ष्म से सूक्ष्म तथा जितना चाहे विशालकाय हो सकता है।

1. अणिमा:– अणिमा सिद्धि प्राप्त कर साधक जब चाहे एक अणु के बराबर सूक्ष्म शरीर धारण करने में सक्षम होता है।
2. महिमा:– महिमा सिद्धि प्राप्त कर साधक जब चाहे अपने शरीर को विशाल करने में सक्षम होता है।
3. गरिमा:– इस सिद्धि को प्राप्त करने के बाद साधक अपने शरीर के भार को असीमित तरीके से बढ़ा सकता है।
4. लघिमा:– साधक का शरीर इतना हल्का हो जाता है कि वह हवा से भी तेज़ गति से उड़ सकता है।
5. प्राप्ति:– साधक बिना किसी रोक-टोक के किसी भी स्थान पर, कहीं भी जा सकता है।
6. पराक्रम:– साधक किसी के मन की बात को बहुत सरलता से समझ जाता है।
7. इसित्व:– यह भगवान की उपाधि है, यह सिद्धि प्राप्त करने के बाद साधक स्वयं ईश्वर स्वरूप हो जाता है।
8. वसित्व:- वसित्व प्राप्त करने के बाद साधक किसी भी व्यक्ति को अपने वश में कर सकता है।

यह आठ सिद्धियां, नौ निधियां प्रभु श्री राम जी के परम भक्त श्री हनुमान जी में हैं।